जो ‘आपकी-खुशी’ के लिए ‘अपनी हार’ मान लेता हो…
उससे ‘आप’ कभी भी नही ‘जीत’ सकते हो..!
शुभ प्रभात ….