जरा सी जिन्दगी में, व्यवधान बहुत हैं,
तमाशा देखने को यहाँ, इन्सान बहुत हैं ,
खुद ही बनाते हैं हम, पेचीदा जिंदगी को,
वर्ना तो जीने के नुस्खे, आसान बहुत हैं !!!!