“वज़ूद” सबका है अपना अपना,
सूर्य के सामने दीपक का न सही, अंधेरों के आगे बहुत कुछ है……!!