“विश्वास” में विष भी है
आस भी है, ये स्वयं पर निर्भर करता है कि…
क्या ग्रहण करना है..