Category: Blogs

141 posts
Leave a comment जरा सी जिन्दगी में, व्यवधान बहुत हैं, तमाशा देखने को यहाँ, इन्सान बहुत हैं… Leave a comment

जरा सी जिन्दगी में, व्यवधान बहुत हैं, तमाशा देखने को यहाँ, इन्सान बहुत हैं…

By on
Posted on

जरा सी जिन्दगी में, व्यवधान बहुत हैं, तमाशा देखने को यहाँ, इन्सान बहुत हैं , खुद ही बनाते हैं हम, पेचीदा जिंदगी को, वर्ना तो जीने के नुस्खे, आसान बहुत हैं !!!!

Leave a comment संघर्ष से बड़ी शक्ति नहीं… Leave a comment

संघर्ष से बड़ी शक्ति नहीं…

By on
Posted on

द्रोणाचार्य कौरव सेना के सेनापति नियुक्त हुए। पहले दिन का युद्ध वीरतापूर्वक लड़े तो भी विजयश्री अर्जुन के हाथ रही।यह देखकर दुर्योधन को बड़ी निराशा हुई। वह गुरु द्रोणाचार्य के पास गए और कहा-गुरुदेव अर्जुन