झूठ में आकर्षण होता है, पर स्थिरता ” सत्य ” में ही होती है..
शब्दो का वजन तो बोलने वाले के
भाव पर आधारित है !
एक शब्द मन्त्र हो जाता है
एक शब्द गाली कहलाता है
वाणी ही व्यक्ति के..
व्यक्तित्व का परिचय कराती है..