मन मथुरा और तन वृंदावन
नयन बहे यमुना जल पावन.

रोम रोम बसे है गोपी ग्वाला
धडकन जपती निशिदीन माला.

साँसो मे मुरली की सरगम
प्राण तुम्ही हो ओ नंदलाला.